Thursday, January 8, 2009

ये सक्का से कहती है

योम ए अशूरा के इस ग़मगीन मौके पर हज़रत इमाम हुसैन को एक श्रद्धांजली इस नौहे के द्वारा

4 comments:

रज़िया "राज़" said...

Imam hussein aur unke bahattar sathiyon ka ghum ye duniya kabhi bhula nahi sakti.

Shah ast Hussain, Badshah ast Hussain
Deen ast Hussain, Deen Panah ast Hussain
Sardad na dad dast, dar dast-e-yazeed,
Haqaa key binaey La ila ast Hussain

महामंत्री - तस्लीम said...

सराहनीय।

----------
तस्‍लीम
साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

जीशान भाई, इस सिलसिले को भी आगे बढांए।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

zeashan zaidi said...

Test mail
http://hindisciencefiction.blogspot.com/